When the song is over

When the song is over,
And the melody is long gone,
Then you’d wonder when alone,
White lips of a long-dead lover

But something would gnaw at your mind,
Something sinister in your memories,
A trace of poison, a mockery
Of love, thought to be deaf and blind

And then you’d know
It was your song that kept you alive,
And not the love

शून्य की ओर

ज़िन्दगी का हर गुज़रता हुआ लम्हा,
दूर ले जा रहा है मुझे
तुमसे, तुम्हारी यादों से
जैसे किसी नाव पे सवार, क्षितिज की ओर बढ़ता हुआ

तुमसे ही नहीं, सबसे दूर जा रहा हूँ
सबके चेहरे अँधेरे में विलीन होते हुए
कुछ हँसते-रोते, कुछ एकटक देखते हुए
एक सन्नाटे, शून्य की ओर जा रहा हूँ